What Is C++ In Hindi

what is C++ in hindiDear Student’s आज के इस Lecture में हम सीखेंगे What is C++ Programming Language यानि की सी++ लैंग्वेज क्या होती है और सी++ लैंग्वेज से जुड़े हुए Component क्या है और साथ ही जानेगे की C++ Programming Language  के कितने Features होते है. Language से Related सारे Topics जैसे सी++ उपयोग, विशेषताएं, Principals आदि हम What is C++ के Lecture में ही Cover करेगे.

Lectures Covering Topics – C++ Language In Hindi और सी++ क्या है?

  • Introduction To What Is C++ Language In Hindi – सी++ लैंग्वेज का परिचय
  • What Is C++ Language In Hindi – सी++ लैंग्वेज क्या होती है
  • Principals Of C++ Language In Hindi
  • What Is Features of C++ Language In Hindi – सी++ लैंग्वेज की विशेषताएं
  • What Is Use C++ Language In Hindi – सी++ लैंग्वेज के उपयोग
  • A Simple Example of C++ Programming – सी++ लैंग्वेज के उदहारण

Introduction To C++ Language In Hindi – सी++ लैंग्वेज का परिचय

Hindi Me Tutorial आपको सी++ लैंग्वेज मैं Advanced और Basic Concepts Provide करता है. हमारे सी++ Lecture Student’s, Beginners और Professionals के लिए बनाया गया है.

सी++ एक object oriented Programming Language है. यह सी++ प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के लिए extension है. सी++ लैंग्वेज भी C प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का ही Advanced version है.

सी++ मैं आपको कण्ट्रोल स्टेटमेंट ऑब्जेक्ट & Class, Inheritance, Constructor, destructor, This, Static, Polymorphism, Abstraction, Abstract Class, Array, String etc का प्रयोग किया जाता है.

What Is C++ Language In Hindi और सी++ लैंग्वेज क्या होती है

सी++ एक Object Oriented Programming Language है. सी++ Bjarne Stroustrup ने Develop की थी. इस Language के आने से पहले सी++ और Simula67 दोनों Popular Language थी. बजारने स्ट्रोस्ट्रुप एक ऐसी लैंग्वेज बनाना चाहते थे.

जिसमे Object Oriented Programming Language के सभी Features हों. और साथ ही वह Language Familiar भी हो. उनका यह Experiment C++ Programming Language थी जो की उन्होंने C और Simula67 को मिलकर बनायीं थी.

सी++ को 1979 Bell Laboratories ने Develop किया गया था. सी++ एक Middle Level लैंग्वेजे है. इसमें High लेवल और Low लेवल दोनों लैंग्वेज के सभी Features होते है. सी++ लैंग्वेज के सभी Features सी++ मैं मिलते है.

What Is C++ Language Features In Hindi – सी++ लैंग्वेज की विशेषताएं

Student’s सी++ के कुछ Important फीचर्स है. जिसकी बजह से इतनी Old Language होने के बाबजूद आज भी प्रयोग के जाती है. तो चलिए जानते है सी++ के फीचर्स के बारे मैं.

  • Object Oriented Programming Language
  • High Level & Low Level Language
  • Simple & Easy To Learn
  • Faster
  • Pointer
  • Recursion
  • Memory Management
  • Structured
  • Rich Library
  • Portable
  • Extensible
  • Compiler Based

Features of C++

What Is Use C++ Language In Hindi सी++ लैंग्वेज के उपयोग

सी++ का प्रयोग क्या है सी++ का प्रयोग आप कैसे कर सकते हो, सी++ Language कहाँ कहाँ प्रयोगकी जाती है. इस सब के बारे में भी जानना बहुत जरूरी है.

  • सी++ एक Multipurpose Languageहै. इसका प्रयोग हम बड़े सॉफ्टवेयर एंड एप्लीकेशन को Develop करने में कर सकते है.
  • इसका प्रयोग हार्डवेयर पर कण्ट्रोल करने के लिए किया जाता है. यानि सी++ से ऐसे सॉफ्टवेयर डिज़ाइन करते है जो हार्डवेयर पर कण्ट्रोल रखते हो.
  • इसका प्रयोग डिवाइस Drivers बनाने के लिए किया जाता है.
  • सी++ का प्रयोग Education Purpose के लिए किया जाता है. क्योंकि सभी बड़ी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सी++ के Features को Follow करते है.
  • सी++ C Language का Extension है. इसलिए वो सॉफ्टवेयर जो C लैंग्वेज पर डेवेलोप किये जाते है वो सी++ पर भी किये जा सकते है.
  • अगर हम कोई ऐसा सॉफ्टवेयर बनाना चाहते है जो High and low दोनों लैंग्वेज पर अच्छे से Work करे. तो आप उस सॉफ्टवेयर को सी++ पर डेवेलोप करे.
  • बहुत से बड़ी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज Pointer को Support नहीं करती है. यदि आप Pointer के Through कोई सॉफ्टवेयर डेवेलोप करना चाहते है. तो आप सी++ का प्रयोग कर सकते है.

Principals Of C++ Programming Language In Hindi

  • Class:- Class एक user define data type होती है जिसे object की help से access किया जाता है.
  • Object:- ऑब्जेक्ट एक Class Type वेरिएबल होता है. ऑब्जेक्ट की Help से हम Class के वेरिएबल और Method को प्रयोग कर सकते है.
  • Abstraction:- Abstraction का प्रयोग हम जब करते है जब हमें यूजर को सिर्फ वही Functionality Show करना हो जिसकी उसे जरूरत हो.
  • Inheritance:- जब हमें किसी कोड को Reuse करना हो तब हम Inheritance Concept का प्रयोग करते है.
  • Encapsulation:- वेरिएबल और Function कोबंद करने के लिए Encapsulation का प्रयोग किया जाता है. इसे Data Handling भी कहते है.
  • Polymorphism:- Polymorphism का मतलब same नाम से होता है. जब हमें किसी class मैं same नाम के Function प्रयोग करने होते है. तब हम Function Overloading Concept का प्रयोग करते है. जोकि Polymorphism कहलाती है. इसमें Function को अलग अलग Definition दी जाती है.
  • Message Passing:- इसमें ऑब्जेक्ट एक दुसरे से Communicate करते है. जिसमे आपका प्रोग्राम Real Life Condition को Represent करता है.

Example Of C++ Programming Language- सी++ लैंग्वेज के उदहारण

सम्बंधित पढ़ (Related Lecture):- 

Dear Student’s मैं आशा करता हूँ की आपको What Is C++ Programming Language का Lecture पढ़ कर समझ में आ गया होगा की सी++ प्रोग्रामिंग Language क्या है. यदि आपको इस Lecture से रिलेटेड कोई भी Problem है तो आप हमे Comment करके पूछ सकते है.

Share This Post On

About Author

Thakur Aman Singh

Hey, I am Aman Singh Tomar from Taj City Agra. Through This Blog I want to share my Knowledge with all of you. Read More >>

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *